Wednesday, August 13, 2014

अंतर्मन का मंथन

क्यूँ चक्रवात प्रचंड उठे हैं,
क्यों अंतर्मन में हैं हलचल,
यह कैसी दुविधा में दिल फंस गया,
निर्मोही मन की व्यथा सुन कर।
अक्सर जज्बातों की शक़्ल लिए,
कुछ रिश्ते क्षरभंगुर से होकर,
सवाल करते हैं कि,
क्या तेरा वजूद ही बेमानी हैं?
वजह हम हैं, सबब भी हम।
चोट हम हैं, मरहम भी हम।
अंतर्मन के मंथन से,
शुन्य हाथ में आता हैं।
यह कैसी विडम्बना हैं आखिर?
मन-मष्तिस्क घबराता हैं।
कई बार हारे हैं फैसलों में,
कभी अपनो में, तो कभी सपनो में।
कभी जज्बात उछाल लिए,
तो कभी कठोर बनना नहीं आया,
निर्दय हो कर समाज ने फ़िर,
मुझको ही दोषी ठहराया,
ठोकर खा कर समझे  भी तो,
अब सोच रहे हैं,
क्या खोया और क्या पाया?
किसी के लिए सबब बन गए,
फिर बोल दिया सब मोह -माया।
                                           -रत्ना









Friday, October 25, 2013

चित्कबरी कहानियाँ

चित्कबरे सिर्फ चीते नहीं ,
चित्कबरी कहानियाँ भी होती हैं,
यादों की उधेड़ बुन से जन्मी हुई,
खुबसूरत और बदशक्ल किरदारों के साथ,
सबके पास कहने -सुनने के लिए,
चित्कबरी कहानियाँ मिल जाती हैं।  
वृस्त्रित या सारांश सी,
अनचाही या मनचाही सी,
कभी पिन्जरे में बंद पंछी सी,
पंख फरफराती हुई,
ध्यान आकर्षित करने को आकुल सी,
तो कभी चिंतन मनन पर अमादा,
या कभी किसी श्रोता की प्रतीक्षा में,
चित्कबरी कहानियाँ होती हैं सबके पास।  
                                                       -  रत्ना


 © All Rights Reserved

Monday, October 21, 2013

जीवन

जब पतवार चले संग नावों के,
संगीत छलकते भावों के,
जीवन की सुमधुर छावो से,
हर दर्द सुखते घावो के,
मेरा जीवन, मेरा सपना,
हर साज लगे मुझको अपना। 
                                      -रत्ना

 © All Rights Reserved

Friday, October 18, 2013

मकसद क्या हैं?


आपाधापी में दौड़ती यह जिंदगी,
मुखौटो की शक्ल लिए घुमती-फिरती मिल जाती  हैं,
आस पास के चौराहों पर।
हकीकत क्या हैं?
कभी कभी सोचती हू मकसद क्या हैं?
वक़्त के हिसाब से बदलते चहरे,
अलग-अलग रंगों में घुले मिले से,
अटपटे से अंदाज में घूरते दिख जाते हैं,
बाजार में सजी दुकानो के आस-पास,
कुछ अभिलाषाए खरीदते हुए,
कुछ सपने बेचते हुए,
कभी नसीब का,
कभी तरकीब का,
कभी वर्चस्व का,
व्यवसाय चल रहा हैं।
कोई प्रतियोगिता हों शायद,
और फिर सोचती हू, जरूरत क्या हैं?
आखिर हकीकत क्या हैं?
                                -रत्ना

 © All Rights Reserved

Monday, April 12, 2010

सफ़र


कुछ जाने पहचाने से रस्ते,
मुझसे होकर गुजरते हैं,
कुछ अनजाने से रस्ते,
मुझसे होकर गुजरते हैं,
कुछ लोग मिलते हैं,
कुछ देर साथ चलते हैं,
कुछ दोस्त मिलते हैं,
कुछ बात करते है,
यह सफ़र हैं यारों,
तय हो जाता है यू ही,
कुछ लोग होते हैं, जो याद करते हैं.
                                               -रत्ना
 ©